कुनूर के बारे में जानकारी - Coonoor in Hindi
तमिल नाडु

कुनूर के बारे में जानकारी - Coonoor in Hindi

Travel Raftaar

फ़िल्मी दुनिया में दिखने वाली खूबसूरती और हरी भरी वादियों की असली झलक देखना चाहते हैं तो आपको जरूर जाना चाहिए कुन्नूर (Coonoor)। तमिलनाडु के नीलगिरी में स्थित कुन्नूर हिल स्टेशन (Coonoor Hill Station) अपनी खूबसूरत वादियों और चाय के बड़े-बड़े और खूबसूरत बागानों के लिए प्रसिद्ध है। समुद्र तल से लगभग 1850 मीटर की ऊँचाई पर स्थित कुन्नूर में प्रकृति के मनमोहक दृश्य पर्यटकों और नवविवाहितों का मन मोह लेते हैं। यहां का एकांत वातावरण और खूबसूरत नजारे इसे एक परफेक्ट हनीमून डेस्टिनेशन (Honeymoon Destination) बनाते हैं। यहां की स्थानीय आबादी लगभग पूरी तरह से चाय के व्यापार पर निर्भर रहती है। यहां घूमने के लिए सिम्स पार्क, डॉल्फिन नोज़, दुर्ग फोर्ट, हिडेन वैली, कटारी फाल्स और सेन्ट जॉर्ज चर्च जैसी जगहें हैं। पर्यटकों के मनोरंजन के लिए यहां घुड़दौड़, गोल्फ, टेनिस आदि की भी व्यवस्था है। इसके अतिरिक्त कुन्नूर घूमने के दौरान "नीलगिरि माउंटेन रेलवे" (Nilgiri Mountain Railway) द्वारा यात्रा जरूर करनी चाहिए। यात्रा के दौरान रास्ते में पड़ने वाले प्राकृतिक दृश्य यात्रियों का मन मोह लेते हैं।

कुनूर के बारे मे -

पर्यटक कुन्नूर आएं और यहां की बेहतरीन चाय ना खरीदें ऐसा हो ही नहीं सकता। कुन्नूर आने वाले पर्यटकों को यहां की शानदार कॉफी, चाय और चॉकलेट अवश्य खरीदनी चाहिए। इसके अलावा यहां गर्म कपड़े और खूबसूरत हैंडीक्राफ्ट के सामान भी खरीदे जा सकते हैं।

कुनूर की यात्रा सुविधाएं -

  • कुन्नूर का मौसम अकसर ठंडा रहता है इसलिए गर्म कपड़े अवश्य अपने साथ रखने चाहिए

  • कुन्नूर में पहाड़ियों और झील आदि जगहों पर घूमते समय सावधानी बरतें

  • कुन्नूर में आप कई चाय की फैक्ट्रियों में घूम सकते हैं

  • यात्रा के दौरान पहचान पत्र साथ रखना चाहिए

  • कुन्नूर में खरीददारी करते समय मोल-भाव अवश्य करें

कुनूर का इतिहास -

कुन्नूर की प्राकृतिक रचना इस तरह की है कि राजा-महाराजाओं के समय से ही लोग इसकी तरफ आकर्षित होते थे। अंग्रेजों ने इस स्थान को लोकप्रिय बनाने में अहम भूमिका निभाई। कहा जाता है कि एक ब्रिटिश अफसर ने 1819 में यहां अपना बंगला बनाया था और उसके बाद अन्य अफसरों ने भी यहां के मौसम से प्रभावित होकर यहां डेरा डाला। साथ ही अंग्रेजों ने कुन्नूर में चाय के बागानों और कारखानों को स्थापित करने का मूल ढांचा भी तैयार किया। आज कुन्नूर बेहतरीन चाय की पत्तियों और एक शानदर पर्यटन स्थल के रूप में प्रसिद्ध है। 

कुनूर की सामान्य जानकारी -

  • राज्य- तमिलनाडु

  • स्थानीय भाषाएँ- बागदा (Badaga), तमिल, हिन्दी, अंग्रेजी 

  • स्थानीय परिवहन- बस, टैक्सी, ऑटो, रेल 

  • पहनावा- कुन्नूर का मौसम बेहद सर्द है इसलिए यहां लोग अकसर गर्म कपड़े ही पहनते हैं। पेंट-शर्ट और स्वेटर जहां पुरुषों की पसंद है वहीं यहां की स्थानीय महिलाएं सिर पर एक सफेद कपड़ा अवश्य बांधती हैं। 

  • खान-पान- चाय के बागानों से घिरे कुन्नूर में दिन की शुरुआत होती है खूशबूदार चाय के साथ। यहां घरों में पारंपरिक तरीके से चॉकलेट भी बनाई जाती है जो बेहद स्वादिष्ट होती है। साथ ही यहां साउथ इंडियन खाना बेहद पसंद किया जाता है। 

कुनूर कैसे पहुंचें -

  • हवाई मार्ग - By Flight

कुन्नूर का निकटतम हवाई अड्डा कोयंबटूर (Coimbatore International Airport) हैं जो शहर से लगभग 80 किमी. की दूरी पर स्थित है

  • रेल मार्ग - By Train

कुन्नूर का निकटतम रेलवे स्टेशन मेट्टुपलयम रेलवे स्टेशन (Mettupalayam) है, जो करीब 33 किमी. दूर है। यहां का निकटतम रेलवे जंक्शन कोयंबटूर (80 किमी) में है। यहां से टैक्सी और बस की सहायता से कुन्नूर पहुंचा जा सकता है। इसके अतिरिक्त मेट्टुपलयम से नीलगिरी माउंटेन रेलवे के द्वारा भी कुन्नूर पहुंचा जा सकता है। माउंटेन रेलवे द्वारा यहां पहुंचना पर्यटन के लिहाज से बेहतरीन माना जाता है। 

  • सड़क मार्ग - Connor by Road

कुन्नूर तक जाने के लिए तमिलनाडु के सभी शहरों से बस उपलब्ध है विशेषकर गांधीपुरम से नियमित अंतराल पर कुन्नूर के लिए बसें मिलती हैं। बस से कुन्नूर पहुंचने के रास्ते में भी देखने की शानदार जगहें हैं। 

कुनूर घूमने का समय -

हिल स्टेशन होने के कारण कुन्नूर का मौसम बेहद ठंडा रहता है। यहां सर्दी या गर्मी कभी भी आया जा सकता है। अक्टूबर से फरवरी का समय कुन्नूर घूमने के लिए आदर्श माना जाता है। मार्च से लेकर मई तक भी यहां का मौसम सामान्य रहता है। मानसून के मौसम में यहां अवश्य परेशानी होती है इसलिए जून से लेकर सितंबर तक यहां जाने से बचना चाहिए।