त्रिवटि नाथ मंदिर (Trivatinath Temple)

बरेली शहर के उत्तरी क्षेत्र में स्थित त्रिवेतीनाथ मन्दिर भगवान शिव, जिन्हे त्रिवेतीनाथ भी कहा जाता है, को समर्पित है।

और पढ़ें »


अलख नाथ मंदिर (Alakh Nath Temple)

बरेली के प्राचीनतम मंदिरों में एक अलखनाथ का मन्दिर शैव सम्प्रदाय के अनुयायियों के लिए एक महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल है। शिवरात्रि तथा सावन के प्रत्... और पढ़ें »

ढोपेश्वर नाथ मंदिर (Dhopeshwar Nath Temple)

भगवान शिव के समर्पित दूपेश्वरनाथ मन्दिर बरेली शहर के कैंन्ट इलाके में अवस्थित है. ऐसा मन जाता है कि इस मंदिर की स्थापना ऋषि धूम ने की थी. उनके न... और पढ़ें »


बन्खन्डि मंदिर (Bankhandi Temple)

बरेली के प्राचीन मंदिरों में से एक बनखण्डी नाथ मन्दिर लोगों की आस्था का एक प्रमुख केंद्र है. 1857 की क्रान्ति के प्रर्सिद्ध नेता दीवान शोभाराम न... और पढ़ें »


लक्ष्मी पुरोहित मंदिर (Lakshmi Narayan Temple)

बरेली शहर के मध्य में स्थित चुन्ने मियाँ का लक्ष्मी नरायण मन्दिर देवी लक्ष्मी तथा भगवान विष्णु की सुन्दर प्रतिमाओं के कारण श्रद्धालुओं को आकर्षि... और पढ़ें »


दरगाह ए आला-हज़रत (Dargah e Ala-Hazrat)

बरेली स्थित दरगाह-ए-आला-हजरत मुस्लिम सन्त और विद्वान आलाहजरत इमाम अहमद रज़ा ख़ान की दरगाह है जंहा सभी धर्मो के लोग अपनी श्रद्धा के पुष्प चढाने आ... और पढ़ें »

काशी विश्वनाथ मंदिर (Kashi Vishwanath Temple)

काशी विश्वनाथ मंदिर (Kashi Vishvanath Temple) भगवान शिव को समर्पित प्रमुख मंदिरों में से एक है। यह मंदिर उत्तर प्रदेश राज्य के वाराणसी शहर में प... और पढ़ें »

वाराणसी घाट (Varanasi Ghat)

वाराणसी, जहाँ कदम रखते ही महसूस होता है जैसे देवताओं ने यहाँ कोई विशेष कृपा बरसाई है इसलिए यदि देवत्व का वास्तविक अनुभव करना हो तो यह सबसे उचित ... और पढ़ें »

हस्तिनापुर तीर्थ (Hastinapur Shrine)

भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के मेरठ शहर में स्थित श्री हस्तिनापुर तीर्थ, जैन श्वेतांबर तीर्थ जैनियों के लिए एक महत्वपूर्ण धार्मिक ... और पढ़ें »

साईं बाबा मंदिर (Sai Baba Temple)

भारत के उत्तर-प्रदेश राज्य के नोएडा शहर में स्थित साईं बाबा का मन्दिर बहुर्चचित है। यह मंदिर साईं बाबा को समर्पित है। साईं बाबा के इस ... और पढ़ें »

त्रिवेणी संगम (Triveni Sangam)

तीन नदियों के मिलने यानि यमुना, गंगा, सरस्वती के पवित्र संगम को त्रिवेणी संगम कहते हैं। यह स्थल भारतीय संस्कृति के लिए एक पवित्र तीर्थ स्थलों मे... और पढ़ें »

देवी मंदिर (Devi mandir)

पानीपत का देवी मंदिर मराठा शासक ने 8वीं शताब्दी में बनवाया था, जो मराठा विरासत का अद्भुत नमूना है। यह मंदिर स्थानीय देवी को समर्पित है, जो टैंक ... और पढ़ें »

देवी तलब मंदिर (Devi Talab Mandir)

प्रसिद्ध देवी तलब मंदिर जालंधर शहर के मध्य में स्थित है। यह 200 साल से भी अधिक पुराना मंदिर माना जाता है। यह मंदिर देवी दुर्गा को समर्पित किया ग... और पढ़ें »

देवी तलब मंदिर (Devi Talab Mandir)

प्रसिद्ध देवी तलब मंदिर जालंधर शहर के मध्य में स्थित है। यह 200 साल से भी अधिक पुराना मंदिर माना जाता है। यह मंदिर देवी दुर्गा को समर्पित किया ग... और पढ़ें »

सेंट मैरी कैथेड्रल चर्च (St Mary's Cathedral Church)

सेंट मैरी कैथेड्रल चर्च जालंधर के प्रसिद्ध पर्यटकों स्थलों में से एक है, जिसकी सुन्दरता देखने लायक ही बनती है। इस चर्च के निकट ही बने हरियाली रह... और पढ़ें »

सेंट मैरी कैथेड्रल चर्च (St Mary's Cathedral Church)

सेंट मैरी कैथेड्रल चर्च जालंधर के प्रसिद्ध पर्यटकों स्थलों में से एक है, जिसकी सुन्दरता देखने लायक ही बनती है। इस चर्च के निकट ही बने हरियाली रह... और पढ़ें »

शक्ति पीठ शाकुंबरी (Shakti Peeth Shakumbari)

शाकुंबरी देवी को समर्पित किया गए इस मंदिर की वास्तुकला बहुत ही खूबसूरत है। शक्ति पीठ शाकुंबरी सभी पीठों में से सबसे पुराना पीठ है जहां दूर-दराज ... और पढ़ें »

गुग्घा वीर (Ghuggha Veer)

जहर दीवान गुग्घा के नाम से पुकारे जाने वाले गुग्घा वीर सहारनपुर नगर से मात्र पांच किमी. की दूरी पर बनवाया गया है। इस स्थान पर हर साल सितम्बर के ... और पढ़ें »

गोरखनाथ मंदिर (Gorakhnath Temple)

गोरखनाथ मंदिर को गोरक्षनाथ मंदिर के नाम से भी पुकारा जाता है। यह मंदिर शहर के एक दम बीच में बनवाया गया है, जो 52 एकड़ के क्षेत्रफल में फैला हुआ ह... और पढ़ें »

कलां मस्जिद (Kalan Mosque)

कलां मस्जिद, खान-ए-जहां जुनान शाह द्वारा बनवाया गया था, जो 1368-1387 के बीच में बनवाकर तैयार करवाया गया था। इस मस्जिद को बनाने का उद्देश्य नमाज़ ... और पढ़ें »

मार्शलगंज जैन मंदिर (Marsalganj Jain Temple)

मार्शलगंज जैन मंदिर, फिरोज़ाबाद नगर से तकरीबन 21 किलोमीटर की दूरी पर बनवाया गया था, जहां प्रभु आदिनाथ की मूर्ति को स्थापित किया गया है। इस मंदिर ... और पढ़ें »

अमरनाथ (Amarnath)

बर्फ के लगभग 16 फीट ऊँचे एक प्राकृतिक शिवलिंग के लिए विश्व प्रसिद्ध है हिन्‍दुओं का पवित्र धार्मिक स्‍थल अमरनाथ। प्राकृतिक सौंदर्य से भर... और पढ़ें »

स्वर्ण मंदिर (Golden Temple)

पंजाब राज्य के अमृतसर शहर में स्थित श्री हरमन्दिर साहिब गुरुद्वारा विश्वभर में स्‍वर्ण मंदिर (गोल्डन टेम्पल) के नाम से प्रसिद्ध है। दिस... और पढ़ें »

दरगाह-ए-हकीमी (DARGAH–E–HAKIMI)

बुरहानपुर के गांधी चौक से लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर दरगाह-ए-हकीमी स्थित है। इस दरगाह को अब्दुल कादिर हकीम-उद-दीन तथा कामिली सैय्यदी की याद में ... और पढ़ें »

मनसा देवी मंदिर (Mansa Devi Temple)

मनसा देवी मंदिर बिलासपुर गांव से तीन किलोमीटर मणि माजरा में स्थित है। यह मंदिर माता शक्ति को समर्पित किया गया है। 200 साल पुराने इस मंदिर को महा... और पढ़ें »

नाडा साहिब गुरुद्वारा (Nada Sahib Gurudwara)

नाडा साहिब गुरुद्वारा घग्गर नदी के पास और शिवालिक पहाड़ी की निचली पहाड़ी पर बनवाया गया है। पौराणिक कथा के अनुसार यह माना जाता है कि युद्ध के पश्चा... और पढ़ें »

ओंकारेश्वर मंदिर (Omkareshwar Temple)

ओंकारेश्वर इंदौर से लगभग 77 किमी की दूरी पर स्थित है, जहां नर्मदा और कावेरी का संगम होता है। ओंकारेश्वर मंदिर भगवान शिव को समर्पित किया गया है। ... और पढ़ें »

नव चंडी देवी धाम (Nav Chandi Devi Dham)

नव चंडी देवी धाम, लवकुश नगर के खंडवा में स्थित है। यह मंदिर देवी नव-चंडी को समर्पित है। देवी माँ के भक्त बाबा गंगाराम ने इस मंदिर का निर्माण करव... और पढ़ें »

फतेहगढ़ के मंदिर (Temples of Fatehgarh)

11-12 सदी की कला का नमूना फतेहगढ़ के मंदिरों में देखने को मिलता है, जहां उमा-महेश्वर तथा गणेश जी की प्रतिमाएँ विद्यमान हैं। मुगलकाल के कई मंदिर य... और पढ़ें »

गढ़मुक्तेश्वर (Garhmukteshwar)

गढ़मुक्तेश्वर, हापुड जिले का प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है। गंगा नदी के तट पर स्थित इस स्थल को पौराणिक काल में "खाण्डववन" के नाम से जाना जाता... और पढ़ें »

हर की पौड़ी (Har Ki Pauri)

धार्मिक नगरी हरिद्वार (Haridwar) अर्थात "हरी का द्वार" का प्रमुख तीर्थ स्थल है "हर की पौड़ी" (Har ki Pauri)। गंगा नदी के निक... और पढ़ें »

गुरुद्वारा बंगला साहिब (Gurudwara Bangla Sahib)

यह गुरुद्वारा सिखों के नौवें गुरु, गुरु तेग बहादुर साहिब जी को समर्पित किया गया है। गुरु तेग बहादुर जी यहां सन् 1675 में आए थे। यहां के बारे में... और पढ़ें »

रामघाट (Ram Ghat)

रामघाट मंदाकनी नदी के किनारे स्थित है, जहां संत साधु साधना कर लोगों को ज्ञान का अमृत बांटते हैं। वनवास के दौरान राम-सीता और लक्ष्मण ने यहाँ स्ना... और पढ़ें »

हनुमंत धाम (Hanumat Dham)

हनुमान धाम में बनी हुई हनुमान जी की प्रतिमा दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी प्रतिमा है जो 104 फुट लम्बी है। हनुमान जी की इस मूर्ति का रंग नारंगी है जिस... और पढ़ें »

सेंट थॉमस चर्च (St. Thomas Church)

हिसार स्थित ‘सेंट थॉमस चर्च’ एक ऐतिहासिक व धार्मिक स्थल है, जिसका निर्माण सन् 1860-1864 के बीच हुआ। यह चर्च यीशु मसीह के बारहवें शिष... और पढ़ें »

अग्रोहा धाम (Agroha Dham)

देवी महालक्ष्मी जी को समर्पित अग्रोहा धाम या अग्रोहा मंदिर हिसार के अग्रोहा गांव में स्थित है, जिसका निर्माण सन् 1976-1984 के बीच हुआ। अग्रोहा व... और पढ़ें »

अवन्तिकापुरी (Avantikapuri)

क्षेत्रवासियों के अनुसार प्राचीनकाल में राजा जनमेजय ने पृथ्वी के समस्त सांपों की मृत्यु हेतु यहाँ पर यज्ञ किया था। यहां का मंदिर और सरोवर बहुत प... और पढ़ें »

गोविन्द साहिब (Gobind Sahib)

महात्मा गोविन्द साहब जी ने मऊ में उपासना की थी, जो सुल्तानपुर से लगभग 25 किलोमीटर दूर है। अगहन दशमी को हर वर्ष एक महीने के लिए मेला आयोजित किया ... और पढ़ें »

तारकेश्‍वर महादेव (Tarkeshwar Mahadev)

तारकेश्वर एक धार्मिक स्थल है, जिसका वर्णन पुराणों में भी मिलता है, जिसके नज़दीक कई शिवलिंग स्थित हैं। तराक का वध करने के कारण भगवान शिव को तारकेश... और पढ़ें »

महा त्रिकोण (Maha Trikon)

महा त्रिकोण, उत्तर प्रदेश राज्य के विन्ध्याचल रेलवे स्टेशन के दक्षिण की ओर स्थित है। यहाँ अन्य कई मंदिर हैं जैसे आनंद भैरव मंदिर, सिद्धनाथ भैरव ... और पढ़ें »

वहेलना (Vahelna)

वहेलना, मुज़फ्फरनगर शहर के बाहरी भाग में स्थित एक छोटा सा गाँव है जो कि जैनियों का एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल भी है। वहेलना में एक ही दीवार से सटी... और पढ़ें »

गणेशधाम (Ganeshdham)

भगवान गणेश को समर्पित गणेशधाम, मुज़फ्फरनगर का एक धार्मिक स्थल है, जहां भगवान गणेश की  35 फीट ऊंची भव्य प्रतिमा स्थापित है। इस मूर्ति का स्थ... और पढ़ें »

कालिका माता मंदिर (Kalika Mata Temple)

रतलाम के कालिका माता मंदिर का इतिहास लगभग 800 साल पुराना है, जिसकी स्थापना 1272 बैसाख शुक्ल की तृतीय को की गई। माता के मंदिर में सभी समुदाय के ल... और पढ़ें »

बिल्पकेश्वारा मंदिर (Bilpakeshhwar Temple)

रतलाम से 18 किमी॰ दूर पश्चिम दिशा में स्थित बिल्पकेश्वारा मंदिर भगवान शिव को समर्पित है, जिसे 10 से 11 शताब्दी के बीच गुर्जर-चालुक्यों की शैली व... और पढ़ें »

नीलकंठ मंदिर (Neelkanth Temple)

बांदा शहर के कालिंजर किले में स्थित नीलकंठ मंदिर भगवान शिव को समर्पित है, जिसका निर्माण राजा चंदेल ने करवाया था। ‘नीलकंठ’ व कालिंजर ... और पढ़ें »

गुरुद्वारा कन्ध साहिब (Kandh Sahib Gurudwara)

गुरुद्वारा कन्धसाहिब, सिख धर्म के संस्थापक व प्रथम गुरु नानकदेव को समर्पित है। यह पंजाब राज्य के बटाला शहर में स्थित है। यहाँ नानकदेव जी का... और पढ़ें »

अचलेश्वर धाम मंदिर (Achleshwar Dham Temple)

बटाला स्थित अचलेश्वर धाम मंदिर एक धार्मिक स्थल है, जो शहर के केंद्र से लगभग 7 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। कार्तिकेय अपने भाई गणेश से प्रतिस्पर... और पढ़ें »

बाजरा मठ मंदिर (Bajra Math Temple)

बाजरा मठ मंदिर, विदिशा के ग्यारसपुर में स्थित प्राचीन मंदिर है, जिसे तीन भागों में विभक्त किया गया है। मंदिर की वास्तुकला व मान्यताओं के अन... और पढ़ें »

बीजामंडल मंदिर (Beejamandal Temple)

बीजामंडल मंदिर को विजयमंदिरा के नाम से भी जाना जाता है, जो विदिशा के आकर्षण में चार चांद लगाता है। 11वीं शताब्दी में निर्मित इस मंदिर में स्तंभो... और पढ़ें »

सरागरही स्मारक (Saragarhi Memorial)

सरागरही स्मारक, गुरुद्वारे के रूप में सिख सैनिकों को समर्पित है, जिन्होंने 12 सितंबर 1897 को सरागरही किले की रक्षा करते हुए अपने प्राण... और पढ़ें »

गुरुद्वारा बादशाही बाग (Gurudwara Badshahi Bagh)

बादशाही बाग गुरुद्वारा अम्बाला सिटी के ज़िला अदालत के पास स्थित है। इस गुरुद्वारे को सिखों के दसवें महान गुरु, गुरु गोविंद सिंह जी को समर्पित किय... और पढ़ें »

अम्बिका देवी मंदिर (Ambika Devi Temple)

अम्बिका देवी मंदिर, अम्बाला के सभी मंदिरों में सबसे प्राचीन है। यह मंदिर देवी अम्बिका को समर्पित किया गया है। अम्बिका मंदिर अष्टकोणीय आकार लिए ह... और पढ़ें »

सैयद हुसैन शरीफ-उद-दीन-शाहवीलायत (Syed Husain Sharaf-ud-din Shahvilayat)

सैयद हुसैन शरीफ-उद-दीन-शाहवीलायत दरगाह, अमरोहा का सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। इस दरगाह को सूफी संत सैयद हुसैन शरीफ-उद-दीन-शाहवीलायत नकवी को सम... और पढ़ें »

वासुदेव मंदिर (Vasudev Temple)

वासुदेव मंदिर को लगभग 500 ई.पू में बनवाकर तैयार करवाया गया था। इस मंदिर को प्राचीनकाल में बाबा बटुकेश्वर धाम के रुप में जाना जाता था। अमरोहा के ... और पढ़ें »

गणेश मंदिर (Ganesh temple)

सीहोर का गणेश मंदिर, शहर के केंद्र से लगभग 3 किलोमीटर दूर पश्चिमोत्तर दिशा में स्थित है। मान्यता है कि इस मंदिर का निर्माण विक्रमादित्य के शासनक... और पढ़ें »

सीहोर चर्च (Sehore Church)

सीहोर चर्च का निर्माण ब्रिटिश प्रतिनिधियों ने 1838 में करवाया था। इस चर्च की संरचना स्काटलैंड के चर्च के समान की गई है। सीहोर चर्च, टीक व बांस क... और पढ़ें »

श्रावस्ती (Sravasti)

श्रावस्ती एक प्राचीन बौद्ध मठ है जो बहराइच से लगभग 50 किमी. की दूरी पर स्थित है। यह बहराइच के सबसे लोकप्रिय स्थलों में से एक माना जाता हैं। यहां... और पढ़ें »

गौरी शंकर मंदिर (Gauri Shankar Mandir)

गौरी शंकर मंदिर को सन् 1951 में सेठ किरोड़ीमल द्वारा निर्माण करवाया गया था। मंदिर के अंदर तीन मूर्तियां स्थापित की गई हैं। एक तरफ़ राधा-कृष्ण जी ... और पढ़ें »

देवसर धाम (Devsar Dhaam)

देवसर धाम, भिवानी नगर में स्थित है। इस धाम को माता दुर्गा को समर्पित किया गया है। इस धार्मिक स्थल पर हर साल नवरात्रि पर मेले का आयोजन किया जाता ... और पढ़ें »

शिवराजपुर (Shivrajpur)

शिवराजपुर, उत्तर प्रदेश के फ़तेहपुर शहर का एक ऎतिहासिक स्थल है। शिवराजपुर एक गांव है, जो गंगा नदी के तट पर बसाया गया है। इस गांव में कई प्राचीन म... और पढ़ें »

बीशभूजी मंदिर (Bishbhuji Temple)

गुना शहर से लगभग 8 किमी. की दूरी पर बीशभूजी मंदिर स्थित है। यह मंदिर देवी दुर्गा को समर्पित है, जिनकी 20 भुजाएं हैं। इस मंदिर में स्थापित देवी द... और पढ़ें »

नैमिषा ज़ंगल (Naimisha Forest)

नैमिषारण्य गोमती नदी के तट पर स्थित है, जो एक प्राचीन जंगल है। यह घना जंगल सीतापुर जिले के निकट है। इस जंगल के बारे में महाभारत में भी उल्लेख है... और पढ़ें »

मल्लावन (Mallawan)

ब्रिटिश सरकार द्वारा मल्लावन में मुख्यालय की स्थापना करवाई गई थी। यहां पर बाबा सूनासीर नाथ का मंदिर है जो भगवान शिव को समर्पित किया गया है।

और पढ़ें »

शाहाबाद (Shahabad)

यह एक ऐतिहासिक स्थल है, जहां पर औरंगजेब के गवर्नर दिलेर खान भी रहा करते थे। दिलेर खान की कब्र शाहाबाद में ही मौजूद है। यहां पर कई सुंदर मंदिर है... और पढ़ें »

गुरूद्वारा गरण साहिब (Gurdwara Garna Sahib)

गुरूद्वारा गरण साहिब, होशियारपुर शहर के बोडल गांव में स्थित है। यह सिखों के छठे गुरु हरगोवंद साहिब जी को समर्पित है। हर साल बैसाखी के दिन यहां प... और पढ़ें »

गुरूद्वारा गुरू दीन तहलियान (Gurdwara Guru Dian Tahalian)

गुरूद्वारा गुरू दीन तहलियान, होशियारपुर शहर के गौंसपुर गांव में है। इस धार्मिक स्थल को सन् 1930 में गुरु हरगोवंद साहिब की स्मृति में बनवाया गया ... और पढ़ें »

माता चक्रेश्वरी देवी जैन मंदिर (Mata Chakreshvri Devi Jain Temple)

एक हजार साल पुराना माता चक्रेश्वरी देवी जैन मंदिर, देवी चक्रेश्वरी को समर्पित है। इस मंदिर का निर्माण पृथ्वी राज चौहान के शासनकाल के दौरान किया ... और पढ़ें »

नानकसर टोबा (Nanaksar toba)

नानकसर टोबा, सिख समुदाय के प्रथम गुरु नानक देव जी को समर्पित है। यह अबोहर के न्यू ग्रैन मार्केट के पास स्थित है। नानक देव अबोहर हरमित नाम के व्य... और पढ़ें »

जामा मस्जिद (Jama masjid)

बदायूं की जामा मस्जिद चतुर्भुज आकार में है। मस्जिद परिसर के पूर्व में मुख्य मस्जिद तीन भागों में विभक्त है। मस्जिद के बीच में गुम्बद है। देखने म... और पढ़ें »

मुक्तेश्वर मंदिर (Mukteshvar temple)

भगवान शिव को समर्पित मुक्तेश्वर मंदिर, पठानकोट से लगभग 20 किमी॰ की दूरी पर स्थित एक धार्मिक स्थल है। महेश्वर के इस मंदिर में तांबे की योनि वाला ... और पढ़ें »

अटरिया माता मंदिर (Atariya Mata Temple)

अटरिया माता मंदिर, रुद्रपुर से दो किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस धार्मिक स्थल पर हर साल लाखों की संख्या में श्रद्धालु आते है। नवरात्रि के अवसर... और पढ़ें »

‘नानक माता’ (Nanak Mata)

रुद्रपुर से लगभग 55 किलोमीटर की दूरी पर स्थित ‘नानक माता’ एक धार्मिक स्थल है, जो सिख समुदाय के प्रथम धर्म गुरु नानकदेव को समर्पित है... और पढ़ें »

सेठानी घाट (Sethani Ghat)

सेठानी घाट, होशंगाबाद शहर का सबसे पुराना घाट है जो नर्मदा नदी के किनारे स्थित है। इस घाट पर नर्मदा जयंती के दिन विशेष समारोह का आयोजन किया जाता ... और पढ़ें »

गुरुद्वारा शहीदगंज साहिब (Gurudwara Shahidganj Sahib)

मुक्तसर शहर में स्थित गुरुद्वारा शहीदगंज साहिब को अरीगिथा के नाम से भी जाना जाता है। इस जगह पर गुरु गोविन्द सिंह जी ने शहीदों को दफनाया था। यही ... और पढ़ें »

गुप्तसर गुरुद्वारा (Guptsar Gurudwara)

गुप्तसर गुरुद्वारा, पंजाब राज्य के मुक्तसर शहर में स्थित है। इस गुरुद्वारे को गुरु गोविंद द्वारा स्थापित करवाया गया था। यहां पर गुरु गोविंद जी अ... और पढ़ें »

ताज उल मस्जिद (Taj-ul-Masjid)

ताज-उल-मस्जिद भारत के मध्य-प्रदेश राज्य के भोपाल शहर में स्थित है। ताज-उल-मस्जिद भारत की सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक है और यह एशिया की सबसे खूब... और पढ़ें »

लक्ष्मी नारायण मंदिर (Lakshmi Narayana Temple)

लक्ष्मी नारायण मंदिर मध्य प्रदेश राज्य के भोपाल शहर में स्थित है। लक्ष्मी नारायण मंदिर की स्थापना सन् 1960 में की गई थी। इस मंदिर को बिरला मंदिर... और पढ़ें »

राम तीर्थ मंदिर (Ram Tirath Temple)

राम तीर्थ मंदिर पंजाब के अमृतसर शहर में स्थित है। इस मंदिर के समीप एक तालाब और कई भव्य मंदिर मौजूद हैं। मंदिर के पास ही एक झोपड़ी स्थि... और पढ़ें »

जामा मस्जिद (Jama Masjid)

उत्तर प्रदेश राज्य के आगरा में स्थित, जामा मस्जिद का निर्माण  सन् 1648 में मुगल बादशाह शाहजहां की बेटी जहांआरा बेगम ने करवाया था। यह म... और पढ़ें »

संतला देवी (Santala Devi Temple)

संतला देवी मंदिर उत्तराखंड राज्य के  देहरादून शहर से लगभग 15 किमी की दूरी पर स्थित है। इस मंदिर का एक महान सांस्कृतिक और धार्मिक ... और पढ़ें »

लाल दरवाजा मस्जिद (Lal Darwanza Masjid)

सन् 1450 में 'लाल दरवाजा मस्जिद' को सुल्तान शाह की बेगम, बीबी राजी ने बनवाकर तैयार करवाया था। इस मस्जिद को 'रूबी गेट मस्जिद' के ... और पढ़ें »

भूतेश्वर मंदिर (Bhuteshvara Temple)

हरियाणा के जींद (Jind) शहर में स्थित भूतेश्वर मंदिर, भगवान शिव को समर्पित है। गोहाना रोड पर बने इस मंदिर का निर्माण जींद के राजा रघुबीर सिंह द्व... और पढ़ें »

जयंती देवी मंदिर (Jayanti Devi Mandir)

जयंती देवी मंदिर, हरियाणा के जींद (Jind) शहर में स्थित है, जिसे लगभग 550 साल पुराना माना जाता है। यह मंदिर जयंती देवी को समर्पित किया गया ह... और पढ़ें »

गीता भवन (Geeta Bhavan)

गीता भवन एक सुन्दर मंदिर है, जो पंजाब के मोगा (moga) शहर में स्थित है। मंदिर में “दर्पण मोज़ेक कला (mirror mosaic work)” और स्व... और पढ़ें »

गीता भवन (Geeta Bhavan)

गीता भवन एक सुन्दर मंदिर है, जो पंजाब के मोगा (moga) शहर में स्थित है। मंदिर में “दर्पण मोज़ेक कला (mirror mosaic work)” और स्व... और पढ़ें »

दूधेश्वरनाथ टेम्पल (Dudeshwaranath temple)

भारत देश के उत्तर प्रदेश राज्य के गाज़ियाबाद शहर में दुधेश्वरनाथ मन्दिर स्थित है। यहां शिवरात्रि के समय मेला लगता है। मेले में हज़ारों... और पढ़ें »

शीतला माता मंदिर (Sheetla Mata Mandir)

भारत के हरियाणा राज्य के गुड़गाँव शहर में शीतला माता मंदिर स्थित है जो कि काफी विख्यात है। नवरात्र के दौरान इस मन्दिर में दर्शन करने व... और पढ़ें »

मां बाल सुंदरी मंदिर (Maa baal sundari mandir)

मां बाल सुंदरी मंदिर अथवा चैती मंदिर, उत्तराखंड के काशीपुर में स्थित है। मुग़लकाल में बनने के कारण मंदिर का आकार मस्जिद जैसा प्रतीत होता है, मंदि... और पढ़ें »

भीमशंकर मंदिर (Bhimashankar temple)

भीमशंकर मोटेश्वर महादेव मंदिर, काशीपुर में स्थित है। भगवान शिव को समर्पित यह मंदिर शिवजी के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। इस पवित्र तीर्थ स्थल... और पढ़ें »

नैमिषारण्य (Naimisharanya)

नैमिषारण्य एक प्राचीन तीर्थ स्थल है, जो उत्तर प्रदेश के सीतापुर शहर में स्थित है। यह तीर्थ गोमती नदी के किनारे बसा है। पौराणिक कथा के अनुसार इस ... और पढ़ें »

बेरी वाले बाबा दरगाह (Beri Wale Baba Dargah)

बेरी वाले बाबा दरगाह, उरई शहर के मुख्य पर्यटक स्थलों में से एक है। “हजरत घाज्जी मंसूर अली शाह” उर्फ “बेरी वाले बाबा” को ... और पढ़ें »

राधाकृष्ण मंदिर (Radhakrishna Mandir)

राधाकृष्ण मंदिर, उरई का प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है। मंदिर में भगवान कृष्ण और राधा जी की सुन्दर मूर्तियाँ स्थापित हैं। यह मंदिर काफी विशाल है और मं... और पढ़ें »

डेरा सच्चा सौदा (Dera Sacha Sauda)

डेरा सच्चा सौदा, सिरसा शहर के शाहपुर बेग में स्थित है। सन् 1948 में शाह मस्ताना ने इस सत्संग स्थल का निर्माण करवाया था। यहाँ लगभग 600 कमरे, एक ब... और पढ़ें »

गुरु गोविंद सिंह जी गुरुद्वारा (Gurudwara Guru Gobind Singh)

गुरु गोविंद सिंह जी गुरुद्वारा, सिरसा के चोरमार खेड़ा में स्थित है। इस स्थान पर गुरु गोविंद सिंह जी ने एक रात गुजारी थी जिसके पश्चात स्थानीय निवा... और पढ़ें »

गुरुद्वारा श्री अम्ब साहिब (Gurdwara Amb Sahib)

गुरुद्वारा श्री अम्ब साहिब भारत के पंजाब राज्य के मोहाली शहर में स्थित है। अम्ब का मतलब आम होता है। ऐसा माना जाता है कि श्री गुरू हर राय साहिब इ... और पढ़ें »

गुरुद्वारा संत मंडल अंगीठा साहिब (Gurdwara Sant Mandal Angitha Sahib)

गुरुद्वारा संत मंडल अंगीठा साहिब, अजीतगढ़ शहर के सेक्टर 62 में स्थित है। इस तीर्थस्थल पर सिख धर्म के दो भक्तों “संत बाबा इशर सिंह तथा भाई क... और पढ़ें »

बिलासपुर (Bilaspur)

बिलासपुर, हरियाणा के यमुनानगर में स्थित है। पौराणिक कथा के अनुसार भगवान श्रीराम जी, सीता और लक्ष्मण ने 14 वर्ष के वनवास के दौरान यहाँ स्थित वेद ... और पढ़ें »

गंगोत्री (Gangotri)

गंगोत्री (Gangotri), धाम देव भूमि उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में समुद्र तल से 3042 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। इसके आस- पा... और पढ़ें »

यमुनोत्री (Yamunotri)

उत्तराखंड राज्य के उत्तरकाशी जिले में स्थित यमुनोत्री धाम चारों तरफ से खूबसूरत पहाड़ियों से घिरा हुआ है। यहाँ यमुना देवी का मंदिर है जो समुद्रतल ... और पढ़ें »

जामा मस्जिद (Jama Masjid)

लखनऊ शहर में स्थित जामा मस्जिद का निर्माण सन् 1837 में मोहम्मद अली शाह द्वारा शुरू करवाया गया था लेकिन उनकी मृत्यु के बाद यह कार्य उनकी बेगम नवा... और पढ़ें »

श्री राधाकृष्ण मंदिर (Shri Radhakrishna Temple)

उत्तर प्रदेश राज्य के कानपुर शहर में श्री राधाकृष्ण मंदिर स्थित है। इस मंदिर में प्राचीन तथा आधुनिक कला का अद्भुत मिश्रण देखने को मिलत... और पढ़ें »

जामा मस्जिद (Jama masjid)

जामा मस्जिद, जम्मू कश्मीर राज्य के लेह जिले में स्थित प्रमुख ऐतिहासिक और सबसे बड़ी मस्जिद है। सन् 1666-1667 ईस्वी में यह मस्जिद तत्कालीन लेह शास... और पढ़ें »

तख्त श्री दमदमा साहिब (Takht Sri Damdama Sahib)

भारत के पंजाब राज्य के बठिंडा शहर में तख्त श्री दमदमा साहिब स्थित है। बठिंडा शहर से कुछ दूरी पर बसे तलवंदी साबो तहसील को दमदमा साहिब के नाम... और पढ़ें »

नैना देवी मंदिर (Naina devi Temple)

नैनी झील के किनारे बना “नैना देवी मंदिर” (Naina Devi Temple) 51 शक्तिपीठों में से है। यहाँ प्रयुक्त नैना शब्द से तात्पर्य, माता... और पढ़ें »

मसौन शिव मंदिर (Masaun shiva temple)

भारत के मध्यप्रदेश राज्य के रीवा शहर में मसौन शिव मंदिर स्थित है। मसौन मंदिर भगवान शिव के चन्द्रेहे रूप को समर्पित है, जिसका चक्रीय गर्भ गृह, सप... और पढ़ें »

श्री रधुनाथजी मंदिर (Shri Raghunathji Temple)

भारत के मध्यप्रदेश राज्य के रीवा शहर में भगवान राम को समर्पित श्री रघुनाथ मंदिर लक्ष्मणपुर गांव में स्थापित है, जिसका संचालन चिन्मय मिशन द्वारा ... और पढ़ें »

अहर (Ahar)

गंगा नदी के घाट पर बसा अहर एक छोटा शहर है, जहां भगवान शिव व माता अवंतिका का प्राचीन मंदिर स्थित है। अहर नगर का वर्णन महाभारत से मिलता है, जिसमें... और पढ़ें »

वैष्‍णो देवी (Vaishno Devi)

त्रिकुटा पहाड़ी की पवित्र गुफा है माँ वैष्णो देवी का वास स्थान, जहाँ तीर्थयात्री माँ के तीन पिंडीस्वरुपों- विद्या की देवी सरस्वती, धन की देवी माँ... और पढ़ें »

पिरान कलियर दरगाह (Piran kaliyar sharif)

पिरान कलियर दरगाह, हरिद्वार से करीब 20 किलोमीटर दूर गंगा नदी के तट पर रुड़की शहर में स्थित है। यह दरगाह पूरे देश को मानवता और एकता का संदेश देती... और पढ़ें »

हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib)

गुरूद्वारा श्री हेमकुंड साहिब जी, सिखों का यह धार्मिक स्थल उत्तराखंड राज्य के चमोली जिले में स्थित है। यह समुद्र तल से 15000 फीट की ऊंचाई पर है।... और पढ़ें »

पार्श्वनाथ मंदिर (Parsvanath Temple)

पार्श्वनाथ मंदिर, मध्यप्रदेश राज्य के छतरपुर में स्थित है। यह दक्षिणी समूह में जैन धर्म के मंदिरों का सबसे बड़ा मंदिर है। इस मंदिर की बाहरी दीवा... और पढ़ें »

रूपनाथ मंदिर (Roopnath temple)

रूपनाथ मंदिर भगवान शिव को समर्पित है, जो मध्य प्रदेश राज्य के कटनी शहर के क्षेत्र के पास बहोरीबंद से 3 किमी॰ की दूरी पर स्थित है। रूपनाथ मंदिर म... और पढ़ें »

शाही जमा मस्जिद (Shahi Jama Masjid)

उत्तर प्रदेश राज्य के सम्भल शहर में शाही जामा मस्जिद स्थित है। इस शाही जामा मस्जिद का निर्माण मुगल शासक बाबर के शासनकाल के दौरान ... और पढ़ें »

जटोली मंदिर (Jatoli Temple)

जटोली मंदिर हिमाचल प्रदेश राज्य के सोलन में एक बहुत प्रसिद्ध शिव मंदिर है। कर्नाटक शैली में बना यह मंदिर, एशिया का सबसे ऊँचा भगवान शिव का मंदिर ... और पढ़ें »

ब्रिक्स मंदिर (Bricks temple)

कैथल जिले के कलायात शहर में पांच ईंटों के मंदिर थे जिनमें से आज केवल दो ही बचे हैं, इन्हें ब्रिक्स मंदिर के नाम से जाना जाता है। इन मंदिरों का न... और पढ़ें »

लाल मस्जिद (Red Mosque)

सन् 1570 में निर्मित लाल मस्जिद, हरियाणा राज्य के रेवाड़ी के पुराने जिला नयायालय के समीप स्थित है। यह मस्जिद शहर की ऐतिहासिक इमारतों में से ... और पढ़ें »

घंटेश्वर मंदिर (Ghanteshwar Mandir)

भारत के हरियाणा राज्य के रेवाड़ी शहर में घंटेश्वर मंदिर स्थित है। रेवाड़ी का घंटेश्वर मन्दिर शहर के बीचों-बीच स्थित एक प्रसिद्ध हिन्दू ... और पढ़ें »

पशुपतिनाथ मंदिर (Pashupatinath temple)

पशुपतिनाथ मंदिर, भगवान शिव को समर्पित है। यह मंदिर मध्य प्रदेश राज्य के मंदसौर जिले में शिवाना नदी के छोर पर स्थित है। इस भव्य मंदिर के चारों दि... और पढ़ें »

श्री वही पार्श्‍वनाथ मंदिर (shri vahi Parshwanath temple)

श्री वही पार्श्‍वनाथ मंदिर, मंदसौर से लगभग 16 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। पार्श्‍वनाथ के इस मंदिर की स्थापना राजा संप्रति द्वारा ... और पढ़ें »

बिरला मंदिर (Birla Mandir)

बिरला मंदिर नागदा शहर में स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर है। इस मंदिर का निर्माण सफेद संगमरमर के पत्थरों से किया गया है। इस मंदिर को जी.डी बिरला ने बनव... और पढ़ें »

दाऊजी मंदिर (Dauji Temple)

हरियाणा राज्य के पलवल शहर में दाऊजी मंदिर सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। यह मंदिर, भगवान कृष्ण के बड़े भाई बलराम को समर्पित है। इसी धार... और पढ़ें »

भादवा माता मंदिर (Bhadwa mata temple)

भादवा माता मंदिर, नीमच से लगभग 18 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस मंदिर का निर्माण संगमरमर पत्थर से किया गया है, जिसमें भादवा माता, न... और पढ़ें »

शिव मंदिर (Shiv Temple)

पीथमपुर स्थित शिव मंदिर एक धार्मिक स्थल है, जिसे कलेश्वर नाथ मंदिर भी कहा जाता है। यह मंदिर महानदी हसदेव नदी के तट पर स्थित है। महाशिवरात्रि के ... और पढ़ें »

केदारनाथ मंदिर (Kedarnath Temple)

उत्‍तराखण्‍ड के चार धामों में से एक, मंदाकिनी नदी के तट पर बसा केदारनाथ मंदिर (Kedarnath Temple), रूद्रप्रयाग जिले में स्‍थित है। पं... और पढ़ें »

चारधाम यात्रा (Char dham Yatra)

उत्तराखंड राज्य के चमोली जिले में बद्रीनाथ और पढ़ें »

जामा मस्जिद (Jama Masjid)

जामा मस्जिद में शाम-ए-रमज़ान (An evening of Ramadan at Jama Masjid)

माह-ए-रमज़ान यानि बरकतों, इंसानियत, रहमतों और माफी म... और पढ़ें »