नैनीताल

नैनीताल

नैनीताल (Nainital) भारत के उत्तराखण्ड राज्य में स्थित एक लोकप्रिय हिल स्टेशन है। तीनों ओर से घने-घने वृक्षों की छाया और ऊँचे-ऊँचे पहाड़ों की तलहटी में बसा नैनीताल समुद्रतल से 1938 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। नैनीताल का जिक्र हिन्दू धर्मग्रन्थ, स्कंद पुराण के मानस खंड में त्रि-ऋषि-सरोवर यानि तीन संतों की झील के रूप में भी पाया जाता है। यह शहर हिन्दुओं के 52 शक्तिपीठ में से एक है। नैनीताल दो शब्दों से बना है- "नैनी" और "ताल", जिसमें नैनी का अर्थ आँख से है और ताल शब्द का तात्पर्य झीलों से। यहाँ की आराध्य देवी नैना देवी (Naina Devi) के नाम पर ही इस शहर का नामकरण हुआ था। नैनीताल के मंदिर, पहाड़, झीलें और खूबसूरत वादियाँ इसे एक सम्पूर्ण पर्यटन स्थल बनाती हैं। अगर आप प्रकृति प्रेमी हैं तो एक बार नैनीताल का भ्रमण अवश्य करें, यहाँ के सुंदर और लुभावने दृश्य आपको निराश नहीं करेंगे।


नैनीताल के बारे मे

नैनीताल की तिब्बती मार्किट और माल रोड से ऊनी कपड़े, खिलौने, सस्ते मशीनी उपकरण खरीदें और स्ट्रीट फ़ूड का स्वाद लें।

नैनीताल की यात्रा सुविधाएं

  • मार्च से अप्रैल के समय आपको ऊनी कपड़ों की आवश्यकता पड़ सकती है लेकिन अगर मई से जून के दौरन यहाँ घूमने का प्लान कर रहें हैं तो पहले से ही होटल की बुकिंग करवा लें क्योंकि यह नैनीताल का पीक सीज़न है।
  • ज्यादा कैश न रखें, नैनीताल में कई जगहों पर हर बैंक के एटीएम हैं।
  • ड्राइविंग करते समय सावधान रहें विशेषकर घुमावों पर। हो सके तो स्वयं गाड़ी चलाने की जगह किसी पेशेवर ड्राईवर को चुनें जिसे सभी मार्गो की जानकारी हो।
  • पहाड़ों पर ट्रैकिंग से पहले सनस्क्रीन, स्पोर्ट्स शूज, गॉगल्स और कैमरा जरुर रखें।

नैनीताल का इतिहास

नैनीताल को बसाने का श्रेय ब्रिटिश चीनी व्यापारी पी. बैरन को जाता है। 1839 को जब वह नैनीताल आये तो यहाँ की सुंदरता को देख मंत्र-मुग्ध हो गए और चीनी व्यापार छोड़ कर उन्होंने यहाँ एक घर का निर्माण किया जिसका नाम "तीर्थयात्री कॉटेज" (Pilgrim Cottage) रखा। जल्द ही इस शहर को अंग्रेजों की ग्रीष्मकालीन राजधानी होने का गौरव प्राप्त हुआ।

नैनीताल की सामान्य जानकारी

  • राज्य- उत्तराखंड 
  • स्थानीय भाषाएँ- हिंदी, गढ़वाली, कुमाउनी
  • स्थानीय परिवहन- बस व टैक्सी 
  • पहनावा- यहाँ की महिलायें घाघरा-पिछौरा और साड़ी पहनती हैं एवं पुरुष पजामा, लम्बा कोट और ऊनी टोपी पहनते हैं।
  • खान-पान- नैनीताल में मुख्य रूप से चावल और चावल से बने व्यंजन मिलते हैं। रास, भांग की चटनी, उबले चावल, भट की चुरकनी, आलू के गुटके, काली-सफ़ेद और मडवे की रोटी, पुलाव, बाल मिठाई, पिनालु और गडेरी की सब्जी, अरसा और गुलगुला आदि यहाँ के स्वादिष्ट स्थानीय पकवान हैं।

नैनीताल के प्रमुख त्यौहार

  • नंदादेवी मेला (Nanda Devi Fair)- नैनीताल में प्रत्येक वर्ष सितंबर माह में नंदादेवी मेला आयोजित किया जाता है जिसमें नंदादेवी और सुनंदादेवी की धूमधाम से रथ यात्रा निकाली जाती है। गाजे-बाजे के साथ लोग माँ की आराधना करते हैं और कई सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं।
  • गर्जिया देवी मेला (Garjiya Devi Fair)- कार्तिक पूर्णिमा के दिन हर साल गर्जिया देवो मंदिर में शानदार और भव्य मेले का आयोजन किया जाता है।