दक्षिण गोवा के बारे में जानकारी - South Goa in Hindi
गोवा

दक्षिण गोवा के बारे में जानकारी - South Goa in Hindi

Travel Raftaar

दक्षिणी गोवा (South Goa), गोवा का एक हिस्सा है जो 1966 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्रफल में फैला हुआ है। दक्षिण गोवा, गोवा राज्य के कोंकण क्षेत्र में बसा हुआ है। यह जिला उत्तर में उत्तरी गोवा, पूर्व और दक्षिण में कर्नाटक के उत्तर-कन्नड़ जिले व पश्चिम में अरब सागर से घिरा हुआ है। गोवा का यह भाग अपनी प्राकृतिक सौन्दर्यता और खूबसूरत समुद्र तटों के लिए अधिक प्रसिद्ध है। दक्षिण जिले का प्रशासनिक मुख्यालय मडगांव है। दक्षिणी गोवा अपने खूबसूरत समुद्री तटों के साथ-साथ बेहतरीन झरनों व पहाड़ी इलाकों के लिए भी प्रसिद्ध हैं। यहां भारत के सबसे खूबसूरत झरनों में से एक दूधसागर झरने (Dudhsagar Falls) को भी देखा जा सकता है। दक्षिणी गोवा के सुन्दर समुद्र तटों (Top Beaches of South Goa) में बोगमालो बीच (Bogmalo beach), पालोलेम बीच, अगोंडा बीच (Agonda Beach), वागाटोर बीच (Vagator Beach) आदि समुद्र तट प्रमुख हैं। इन सुन्दर तटों पर पर्यटक घूमने-फिरने के साथ बेहतरीन सी-फूड का आनंद भी ले सकते हैं। 

दक्षिण गोवा के बारे मे -

यदि आप दक्षिणी गोवा में हैं तथा यहाँ की स्थानीय चीजें खरीदना चाहते हैं तो आपको यहाँ स्थित एमएमसी (मडगांव नगर परिषद) बाजार "MMC Market (Madgaon Municipal Council Market)" जरुर जाना चाहिए। इसके अलावा पर्यटक गोवा से काजू, फैनी (Feni), पालोलेम बीच से हस्तनिर्मित वस्तुएं, ज्वैलरी, बीच पर पहने जाने वाले कपड़े आदि चीजें खरीद सकते हैं। 

दक्षिण गोवा की यात्रा सुविधाएं -

  • समुद्री तटों पर जाते समय धूप के चश्मे तथा सन क्रीम अवश्य साथ लेकर जाएं

  • समुद्री लहरों से बच्चों को दूर रखें

  • यात्रा के दौरान अपने निजी सामान का स्वयं ध्यान रखें

  • बीच के किनारे गंदगी न फैलाएं

  • यात्रा करते समय आप कैमरा साथ रख सकते हैं

  • गोवा में घूमने के लिए बाइक किराए पर मिलती है, यह घूमने के लिए सबसे अच्छा साधन माना जाता है

दक्षिण गोवा का इतिहास -

गोवा के इतिहास की बात की जाए तो 1510 में पूरे गोवा पर पुर्तगालियों का उपनिवेश स्थापित था। इस उपनिवेश का विस्तार पुर्तगालियों ने 17वीं से 18वीं शताब्दी के बीच किया। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद 1961 में भारतीय सेना ने 'ऑपरेशन विजय अभियान' के द्वारा गोवा को भारत में शामिल कराया था। 1987 में जब गोवा को राज्य का दर्जा दिया गया तब उसे दो जिलों में बात दिया गया उत्तर गोवा और दक्षिण गोवा। दक्षिण गोवा में गोवा का अधिकतर दक्षिणी भाग आता है। 

दक्षिण गोवा की सामान्य जानकारी -

  • राज्य - गोवा

  • स्थानीय भाषाएँ - कोंकणी, मराठी, पुर्तगाली, हिंदी और अंग्रेजी

  • स्थानीय परिवहन - टैक्सी, बस, मोटर-बाइक 

  • पहनावा - यहाँ की महिलाएं नव वारी (Nav-Vari or Nauvari) नाम की एक साड़ी के अलावा एक पानो भाजु (Pano Bhaju) नाम की एक पारंपरिक पोशाक पहनती हैं। इसके साथ यहां की महिलाएं चमकदार गहने (Stunning Jewelries) पहनना पसंद करती हैं। कैथोलिक महिलाएं ज्यादातर गाउन पहनती हैं। यहाँ पुरुष अथवा कोली मछुआरे (Koli Fishermen) रंगीन शर्ट, हाफ पैंट और सर पर बांस की छाल से बनी टोपी पहनते हैं। 

  • खान-पान - गोवा का मुख्य भोजन मछली करी (Fish Curry) और चावल है। समुद्र के पास होने के कारण यहां सी-फूड बहुत पसंद किया जाता है। यहां आकर ताजा सी-फूड अवश्य ट्राई करना चाहिए। यहाँ मिलने वाला खाना कोंकणी, ब्राजील और पुर्तगाली भोजन की शैलियों का मिश्रण से बना होता है। मछली के अलावा गोवा में रहने वाले कैथोलिक (Catholics) समुदाय के लोग मांस खाना पसंद करते हैं।

दक्षिण गोवा कैसे पहुंचें -

  • हवाई मार्ग - By Flight\

दक्षिणी गोवा पहुंचने के लिए सबसे नजदीकी हवाई अड्डा डाबोलिम हवाई अड्डा (Dabolim Airport) है जहाँ से दक्षिणी गोवा में स्थित मडगांव की दूरी लगभग 29 किलोमीटर है। इसके आगे जाने के लिए पर्यटक टैक्सी या बस सेवा का प्रयोग सकर सकते हैं। 

  • रेलवे मार्ग - By Train

दक्षिणी गोवा में दो बड़े रेलवे स्टेशन हैं एक वास्को डिगामा रेलवे स्टेशन और दूसरा मडगांव रेलवे स्टेशन (Margao Railway Station) में है। दोनों ही स्टेशनों के लिए देश के विभिन्न शहरों से सीधी ट्रेनें मिलती हैं। 

  • सड़क मार्ग - By Road

दक्षिणी गोवा राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 17, 17ए और 14ए (NH 17, NH 17A and NH 4A) द्वारा विभिन्न शहरों से जुड़ा हुआ है। 

दक्षिण गोवा घूमने का समय -

नवम्बर से मार्च माह तक के बीच का समय दक्षिणी गोवा घूमने के लिए सबसे उपयुक्त माना जाता है। इस दौरान यहां का मौसम बेहद सुहाना होता है। क्रिसमस और नए साल के दौरान गोवा का माहौल युवाओं को बेहद आकर्षित करता है। हालांकि पीक सीजन होने के कारण इस सीजन में होटल बुकिंग की समस्या से भी दो-चार होना पड़ सकता है। जून से अक्टूबर के महीने में यहां बरसात होती है। समुद्र अपने ऊफान पर होता है लेकिन अगर आप बारिश के दौरान समुद्र तट के किनारे मजे करने का शौक रखते हैं तो यह समय भी बेहतर होगा। ऑफ सीजन होने के कारण इन महीनों में होटल बुकिंग आदि पर भारी छूट भी मिलती है।