उत्तर गोवा के बारे में जानकारी - North Goa in Hindi
गोवा

उत्तर गोवा के बारे में जानकारी - North Goa in Hindi

Travel Raftaar

उत्तर गोवा (North Goa), भारत के राज्य गोवा का एक हिस्सा है जो 1736 वर्ग किलोमीटर (1736 km²) के क्षेत्रफल में फैला हुआ है। उत्तरी गोवा की सीमाएं महाराष्ट्र राज्य के रत्नागिरी और कोल्कापुर जिले के सावनतवाडी और डोडामार्ग से जुड़ी हैं। उत्तरी गोवा की दक्षिणी सीमाएं दक्षिण गोवा से मिलती हैं। इस जिले का प्रशासनिक मुख्यालय पणजी शहर है जो गोवा राज्य की राजधानी भी है। नॉर्थ गोवा अपने समुद्री तटों के लिए पर्यटकों के बीच प्रसिद्ध है। यहां के समुद्री तटों की नाइट लाइफ पर्यटकों को बहुत पसंद आती है। गोवा के इस भाग में परनेम, बारदेज़ (मापुसा), बिचोलिम, सतारी (वलपोई), तिस्वाड़ी (पणजी) और पोंडा शामिल है। 

उत्तर गोवा के बारे मे -

उत्तरी गोवा के मापुसा बाजार (Mapusa Market) से पर्यटक प्राचीन वस्तुएं, कपड़े, हस्तशिल्प का सामान, मसाले, अचार, सॉस आदि खरीद सकते हैं। शुक्रवार के दिन यहां एक विशेष बाजार लगता है। अंजुना फ़्ली मार्केट (Anjuna Flea Market) से हस्तशिल्प, मसाले, कपड़े, जूते, समुद्र तट पहने जाने वाले वस्त्र, कृत्रिम आभूषण आदि खरीदे जा सकते हैं। बुधवार के दिन अंजुना मार्केट में स्पेशल बाजार लगता है जहां से सस्ता सामान खरीदा जा सकता है। पर्यटक गोवा से काजू ले जाना बिलकुल नहीं भूलते।

उत्तर गोवा की यात्रा सुविधाएं -

  • समुद्री तटों पर जाते समय सनग्लासेस (Sunglasses) तथा सनस्क्रीन साथ लेकर जाएं

  • समुद्री लहरों से बच्चों को दूर रखें

  • यात्रा के दौरान अपने सामान का स्वयं ध्यान रखें

  • बीच के किनारे गंदगी न फैलाएं

  • गोवा कार्निवल के दौरान यहां का माहौल घूमने के लिहाज से बेहतरीन माना जाता है

  • गोवा का माहौल बेहद खुला है लेकिन रात के समय अपनी सुरक्षा का विशेष ध्यान रखना चाहिए

उत्तर गोवा का इतिहास -

समुद्र से बेहद करीब होने के कारण गोवा की संस्कृति अलग-अलग रंगों की रही है। गोवा ईसा पूर्व पहली शताब्‍दी में सातवाहन साम्राज्‍य का अंग था। इसके बाद यहां कई अन्य साम्राज्यों का भी शासन रहा है। इसके बाद सन 1498 में वास्‍कोडिगामा (Vasco Di Gama) द्वारा भारत के लिए समुद्री मार्ग की खोज के बाद कई पुर्तगाली यात्री भारत पहुंचे। इसके बाद यहां लंबे समय तक पुर्तगालियों ने राज किया। भारत के स्‍वतंत्र होने के बाद भी गोवा पुर्तगालियों के कब्‍जे में रहा। लेकिन आखिरकार भारतीय सेना ने सन 1961 में गोवा को पुर्तगालियों के शासन से मुक्त कराया। इसके बाद गोवा को दमन तथा दीव के साथ मिलाकर केंद्रशासित प्रदेश बनाया गया। 30 मई, 1987 को गोवा को पूर्ण राज्‍य का दर्जा दिया गया और दमन तथा दीव को अलग केंद्रशासित प्रदेश बना दिया गया। आज गोवा भारत के सबसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों (Best Tourist Places in India) में से एक है।  

उत्तर गोवा की सामान्य जानकारी -

राज्य - गोवा स्थानीय भाषाएँ - कोंकणी, मराठी, हिंदी, अंग्रेजी और पुर्तगाली स्थानीय परिवहन - टैक्सी, बस, बोट  पहनावा - यहाँ की महिलाएं नव वारी (Nav-Vari) (एक प्रकार की साड़ी), पानो भाजु (Pano Bhaju) के साथ चमकदार गहने पहनती हैं जबकि कैथोलिक महिलाएं गाउन पहनती हैं। जबकि यहाँ के पुरुष अथवा कोली मछुआरे (Koli fishermen) रंगीन शर्ट, हाफ पैंट और सर पर बांस की छाल से बनी टोपी पहनते हैं। यहां ईसाई धर्म को मानने वाले लोग काफी हैं इसलिए यहां के पहनावे में वेस्टर्न लुक दिखना आम बात है।  खान-पान - गोवा का मुख्य भोजन मछली करी (Fish Curry of Goa) और चावल है। यहाँ मिलने वाला खाना कोंकणी, ब्राजील और पुर्तगाली भोजन की शैलियों का मिश्रण से बना होता है। मछली के अलावा गोवा में रहने वाले कैथोलिक समुदाय के लोग सुअर (Pork) और अन्य जानवरों का मांस खाना भी पसंद करते हैं। झींगा (Prawn) यहाँ के प्रसिद्ध समुद्र भोजन में से एक है। इसके अलावा गोवा की बीयर भी बेहद लोकप्रिय है जो अमूमन सभी घरों में मिल जाती है जिसे लोग फेनी (Feni in Goa) के नाम से जानते हैं। इसे गोवा से बाहर बेचने की मनाही है। 

उत्तर गोवा कैसे पहुंचें -

  • हवाई मार्ग - By Flight

नॉर्थ गोवा पहुंचने के लिए नजदीकी हवाई अड्डा डाबोलिम हवाई अड्डा (Dabolim Airport) है जो करीब 34 किमी. की दूरी पर स्थित है। इसके आगे जाने के लिए पर्यटक टैक्सी या बस सेवा का प्रयोग सकर सकते हैं। 

  • रेलवे मार्ग - By Train

गोवा में दो बड़े रेलवे स्टेशन हैं, जो राज्य के दक्षिणी भाग में स्थित है। दक्षिण मध्य रेलवे टर्मिनस (South Central Railway terminus) वास्को डिगामा में और कोंकण रेलवे टर्मिनस (Konkan Railway Terminus) मडगांव (Margao) में है। मडगांव में स्थित रेलवे स्टेशन से उत्तरी गोवा की दूरी लगभग 39 किलोमीटर जबकि वास्को डिगामा से 36 किलोमीटर दूर है। 

  • सड़क मार्ग - By Road

भारत के कई बड़े शहरों से गोवा, राष्ट्रीय राज्य मार्गों एनएच 4ए, एनएच 17 और एनएच 17ए से जुड़ा हुआ है। 

उत्तर गोवा घूमने का समय -

अक्टूबर से अप्रैल माह तक के बीच का समय उत्तर गोवा घूमने के लिए सबसे उपयुक्त माना जाता है। इस दौरान गोवा का मौसम पर्यटन के लिहाज से बेहतरीन होता है। 

Raftaar
women.raftaar.in