Go To Top
Raftaar HomeRaftaar Home
Search
Menu
`
Menu
close button

शालीमार बाग़ पर्यटन स्थल Shalimar Bagh Travel Guide

शालीमार बाग़ (Shalimar Bagh)

शालीमार यानि प्रेम का बाग़ (Garden of Love), श्रीनगर शहर के मुगल गार्डन्स में सबसे बड़ा और लोकप्रिय बाग़ है। प्रेम के बाग़ की उपाधि से मशहूर इस बाग़ को "रॉयल गार्डन" (Royal Garden) भी कहा जाता है। यह बगीचा फारसी व मुगल शैली में बना एक बेहतरीन पहाड़ी बगीचा है। इस में चार सीढ़ीदार लॉन हैं, जिनमें सबसे ऊपरी लॉन सदियों पहले केवल मुगल शासकों और उनकी रानियों के लिए बनाया गया था।

मुगल शासक जहांगीर शालीमार बाग़ को "फरह बख्श" (Farah Baksh) कहकर पुकारते थे जिसका अर्थ होता है सुहावना-आनंदमय। पानी की नहरें, फव्वारें, रंग बिरंगे फूल,  डल झील का किनारा व हिमालय पर्वतों का सुंदर नज़ारा इस बगीचे की खूबसूरती में चार चांद लगाते हैं। यहाँ सुसज्ज्ति चिनार के पेड़ों की संख्या सभी मुगल बाग़ों में सबसे अधिक है।

शालीमार बाग़ का इतिहास (History of Shalimar Bagh)

मुगल शासक जहांगीर ने अपनी रानी मेहरून्निसा (जिन्हें नूरजहां का खिताब प्राप्त था) के लिए इस बाग़ का निर्माण 1616 ईस्वी में करवाया था। इसके बाद उनके बेटे मुगल बादशाह शाहजहां ने इस बाग़ के परिसर को बढ़वाया और इसे "फैज़ बख्श" (Faiz Baksh) नाम दिया। उस वक़्त यह केवल एक बाग़ न होकर मुगल शासकों का गर्मियों में रहने का स्थान भी हुआ करता था।

शालीमार बाग़ का नक्शा Shalimar Bagh, Srinagar, Jammu Kashmir Map

शालीमार बाग़ कैसे पहुंचेंHow to Reach Shalimar Bagh

शालीमार बाग़, श्रीनगर शहर से 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, जिसके लिए श्रीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाई-अड्डे या श्रीनगर रेलवे स्टेशन से टैक्सी द्वारा बाग़ तक पहुंचा जा सकता है। इसके अलावा शहर नेशनल हाईवे 1 व 1A द्वारा देश के कई बड़े शहरों जैसे दिल्ली, अमृतसर, चंदीगढ़ आदि से जुड़ा है।<>

ध्यान रखने योग्य बातेंPoints to remember

  • अपने साथ अपने पहचान पत्र दस्तावेज़ हमेशा रखें
  • शुक्रवार के दिन यह उद्यान बंद रहता है
  • यहां जाने का प्रवेश शुल्क केवल दस रूपये है
  • मौसम के अनुसार इस बाग़ के खुलने व बंद होने का समय अलग अलग है
  • यह बाग़ अप्रैल से अक्टूबर सुबह के नौ से शाम सात बजे तक और नवंबर से मार्च सुबह दस से पांच बजे तक पर्यटकों के लिए खुला रहता है

रोचक तथ्यInteresting Facts of Shalimar Bagh

ऐसा कहा जाता है कि जब इस बाग़ का निर्माण पूरा हुआ था तो इस बाग़ को देखकर जहांगीर ने फारसी जुमला कहा था- गर फिरदौस बरूए ज़मी आस्तो, हमी आस्तो, हमी आस्तो, हमी आस्त अर्थात यदि धरती पर कहीं स्वर्ग है तो वह यहीं है यहीं है।<>

श्रीनगर में स्थित शालीमार बाग़ (Shalimar Bagh at Srinagar) एक अहम बगीचा (Garden) पर्यटन स्थल (Tourist Place, Paryatan Sthal) है। शालीमार बाग़ में समय (Shalimar Bagh Timing) का विशेष ध्यान रखना चाहिए। इस लेख (Travel Guide) के माध्यम से यहाँ के इतिहास, कैसे पहुँचें, रोचक तथ्य आदि की जानकारी पर्यटकों की शालीमार बाग़ यात्रा (Srinagar Travel Guide) को पूर्ण करेगी।

शालीमार बाग़ के सर्च रिजल्ट

श्रीनगर - शालीमार बाग

शालीमार बाग़ को जहाँगीर ने अपनी मलिका नूरजहाँ के लिये सन् 1616 में बनवाया था। मखमली हरी-भरी क्यारियों, गलियारों, सुन्दर द‍ृश्यों के लिये प्रसिद्ध यह ए...

bharatdiscovery.orgपूरा पढ़े...

शालीमार बाग़ के निकट दर्शनीय स्थलPlaces to Visit Near Shalimar Bagh

जम्मू-कश्मीर के अन्य पर्यटन स्थलOther Tourist Places of Jammu Kashmir

जम्मू-कश्मीर के प्रमुख पर्यटन स्थलTop Tourist Places of Jammu Kashmir