Go To Top
Raftaar HomeRaftaar Home
Search
Menu
`
Menu
close button
Archaeological Museum

पुरातत्व संग्रहालय पर्यटन स्थल Archaeological Museum Travel Guide

पुरातत्व संग्रहालय (Archaeological Museum)

खजुराहो का पुरातत्व संग्रहालय, मातंगेश्वर मंदिर के पास स्थित है, जो महोबा से 54, छतरपुर से 45, और सतना से 105 की दूरी पर है। इस संग्रहालय में मुख्य रूप से पांच गैलरी हैं, जिनमें हिन्दू, बौद्ध तथा जैन धर्मों से संबंधित कई मूर्तियां या उनसे संबंधित अवशेष रखे गएं हैं। इस संग्रहालय की स्थापना खजुराहो के क्षतिग्रस्त मंदिरों की मूर्तियों और वास्तुकला के अवशेषों को सुरक्षित रखने के लिए हुई थी। पुरातत्व संग्रहालय में ऐतिहासिक प्रतिमाएं, चित्र, शिलालेख आदि देखे जा सकते हैं। यहां दो हजार से भी अधिक शिलालेख मौजूद हैं। वर्तमान में इस खुले संरचना वाले संग्रहालय का इस्तेमाल आरक्षित संग्रह के लिए किया जाता है, जिसके अहाते (Compound) में आम लोगों को जाने की अनुमति नहीं है।

पुरातत्व संग्रहालय का इतिहास (History of Archaeological Museum)

खजुराहो के पुरातत्व संग्रहालय की स्थापना, सन 1910 में बुंदेलखंड के ब्रिटिश अधिकारी डब्‍ल्‍यू. ए. जार्डिन (W.A. Jardine) द्वारा, खजुराहो के क्षतिग्रस्त मंदिरों की मूर्तियों और वास्तुकला के अवशेषों को सुरक्षित रखने के लिए की गई थी, जिसे 'जार्डिन संग्रहालय' नाम से जाना जाता था। सन 1952 में यह संग्रहालय, भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण के अंतर्गत आया और इसका नाम बदल कर 'पुरातत्‍वीय संग्रहालय' कर दिया गया और सन 1967 में वर्तमान संग्रहालय स्थापित किया यानि कुछ बदलाव किए, जिन्हें आज भी देखा जा सकता है।

पुरातत्व संग्रहालय का नक्शा Archaeological Museum, Khajuraho, Madhya Pradesh Map

पुरातत्व संग्रहालय कैसे पहुंचेंHow to Reach Archaeological Museum

हवाईमार्ग से पुरातत्व संग्रहालय जाने वाले पर्यटक, खजुराहो हवाई अड्डे (Khajuraho airport) का इस्तेमाल  करते हैं। खजुराहो हवाई अड्डे, शहर के केंद्र से लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, जहां से टैक्सी या बस द्वारा आप संग्रहालय तक पहुंच सकते हैं। खजुराहो, महोबा और झाँसी रेलवे स्टेशन, पुरातत्व संग्रहालय के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन हैं, यहां से भी आप निजी वाहन, बस, कार आदि से पुरातत्व संग्रहालय पहुंच सकते हैं। इसके अलावा आप बस आदि से भी पुरातत्व संग्रहालय जा सकते हैं। खजुराहो बस अड्डा, यहां का निकटतम बस अड्डा है जहां से सरकारी व प्राइवेट बस नियमित रूप से चलती हैं।<>

ध्यान रखने योग्य बातेंPoints to remember

  • संग्रहालय में अपने मोबाइल फोन को साइलेंट मोड पर रखें
  • किसी भी मूर्ति या अन्य अवशेषों को ना छुएं
  • किसी की वस्तु की फोटो लेने से पहले संबंधित अधिकारी से आज्ञा जरूर लें
  • बच्चों पर खास ध्यान दें, कहीं खेल -खेल में खुद को या संग्रहालय को नुकसान न पहुंचा लें

रोचक तथ्यInteresting Facts of Archaeological Museum

खजुराहो के पुरातत्व संग्रहालय में सबसे खास बात यह है कि यह एक खुली संरचना है यानि ऊपर से खुला हुआ है। इसके अलावा इस संग्रहालय में दो हजार से भी ज्यादा शिलालेख और चार सिर वाले विष्णु भगवान की प्रतिमा मौजूद है। यहां स्थित चतुर्मुख वाले भगवान विष्णु को बैकुंठ भी कहा जाता है।<>

खजुराहो में स्थित पुरातत्व संग्रहालय (Archaeological Museum at Khajuraho) एक अहम ऐतिहासिक (Historical) पर्यटन स्थल (Tourist Place, Paryatan Sthal) है। पुरातत्व संग्रहालय में समय (Archaeological Museum Timing) का विशेष ध्यान रखना चाहिए। इस लेख (Travel Guide) के माध्यम से यहाँ के इतिहास, कैसे पहुँचें, रोचक तथ्य आदि की जानकारी पर्यटकों की पुरातत्व संग्रहालय यात्रा (Khajuraho Travel Guide) को पूर्ण करेगी।

पुरातत्व संग्रहालय के सर्च रिजल्ट

पुरातत्व संग्रहालय

अवश्य जाएँ पुरातत्व संग्रहालय की स्थापना 1949 में हुई और यह राजस्थान के अजमेर में दिल- ए- आराम उद्यान में स्थित है। संग्रहालय को तीन खण्डों में बाँटा ...

hindi.nativeplanet.comपूरा पढ़े...

पुरातत्व संग्रहालय के निकट दर्शनीय स्थलPlaces to Visit Near Archaeological Museum

मध्य प्रदेश के अन्य पर्यटन स्थलOther Tourist Places of Madhya Pradesh