Go To Top
Raftaar HomeRaftaar Home
Search
Menu
`
Menu
close button
Darjeeling

दार्जलिंग की यात्रा Darjeeling Travel Guide

दार्जलिंग (darjeeling)

सर्द खूबसूरत वादियों का शहर है "दार्जिलिंग"। खड़े, घुमावदार पर्वतों पर लगे देवदार, बांस और ताड़ के पेड़ों के बीच से होते हुए "टॉय ट्रेन" द्वारा दार्जिलिंग का सफर रोमांच से भर देता है। नीले आसमान के तले "माउंट कंचनजंगा" की बर्फ से ढकी पहाड़ियों के मनोरम दृश्य वाला दार्जिलिंग शहर, यक़ीनन एक खूबसूरत स्थान है।
बहुत कम लोग ही जानते होंगे कि दार्जिलिंग का नाम पहले "दोर्जेलिंग" था जिसका अर्थ होता है "तूफानों की धरती"। दार्जिलिंग में अधिक तूफानों के आने के कारण ही इस शहर का यह नाम पड़ा।
पहाड़ियों की ढलान पर बने चाय के बागान, ऑर्किड, पाइंस और रोडोडेनड्रॉन्स के पौधे, पर्वतों के बीच से गुज़रती हुई टॉय ट्रेन और हरी-भरी वादियों के बीच बने रंग-बिरंगें छोटे-छोटे मकान, दार्जिलिंग के ऐसे अनोखे मंज़र आपकी आँखों में हमेशा के लिए बस जाएंगे। दार्जिलिंग में आपको प्रकृति की सुंदरता के ऐसे दुर्लभ दृश्य देखने को मिलेंगें कि आप दंग रह जाएंगे।

दार्जलिंग का इतिहास History of Darjeeling

भारत देश की आज़ादी से पहले काफी समय तक यह क्षेत्र सिक्किम राज्य का हिस्सा हुआ करता था, फिर इस शहर पर नेपाली राजाओं का शासन हुआ। नेपाली जनजाति गोरखा द्वारा सिक्किम के राजा से दार्जिलिंग का क्षेत्र एक युद्ध में छीना गया था।
सन् 1815 की सुगौली संधि के अंतर्गत नेपाल को दार्जिलिंग शहर, ईस्ट इंडिया कम्पनी को सौंपना पड़ा। साल 1817 की टिटालिया संधि होने पर ईस्ट इंडिया कम्पनी ने दार्जिलिंग का क्षेत्र सिक्किम राज्य के सुपुर्द कर दिया लेकिन सन् 1835 में दोबारा ब्रिटिशर्स ने दार्जिलिंग को अपने लिए सैरगाह स्थल के तौर पर अपने अधीन कर लिया। भारत की आजादी के बाद इस शहर को पश्चिम बंगाल में विलीन कर दिया गया।

दार्जलिंग की सामान्य जानकारी General Information of Darjeeling

  • राज्य- पश्चिम बंगाल
  • स्थानीय भाषाएँ- हिंदी, गोरखा, बंगाली, नेपाली, तिब्बती, अंग्रेजी
  • स्थानीय परिवहन- कार, बस
  • पहनावा- दार्जिलिंग में गोरखा पुरूष भोतो, दौरा सुरूवाल और ढाका टोपी पहनते हैं। गोरखा जाति की औरतें साड़ी और चोलो पहनती हैं। वहीं लेपचा जाति के पुरूष दुमप्रा और महिलाएं घुटने की लंबाई तक का डुमडेम पहनती हैं। यहां तिब्बती महिलाएं लॉंग स्लीव ब्लाउज के साथ गहरे रंगों की लंबी ड्रेस पहनती हैं जिसे बक्कू और चुबा कहा जाता है।
  • खान-पान- मोमोज़, थुपका, आलूदम, तिब्बती चाय, तोंगबा, शेल रोटी, छांग, तिब्बती नूडल आदि दार्जिलिंग के प्रसिद्ध स्थानीय व्यंजन हैं। यदि आप दार्जिलिंग की यात्रा कर रहे हैं तो इनका स्वाद चखना ना भूलें। यहां मिलने वाली तिब्बती चाय का स्वाद नमकीन होता है।
पश्चिम बंगाल (West Bengal) राज्य में स्थित दार्जलिंग (Darjeeling), एक अहम पहाड़ी इलाका (hill Station) है। दार्जलिंग में पर्यटन (Tourism in Darjeeling) के लिए कई प्रसिद्ध और आकर्षक स्थल (Darjeeling Tourist Places or Paryatan Sthal Hindi) हैं जो पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। इस लेख (Travel Guide) के माध्यम से पर्यटक अपनी दार्जलिंग यात्रा (Yatra) को सुविधाजनक तरीके से प्लान कर सकते हैं।

पश्चिम बंगाल के अन्य पर्यटन स्थलOther Tourist Places of West Bengal

मौसम की जानकारीWeather, Temperature

Darjeeling, West Bengal

10.51oC

clear sky
Humidity98%
Sunrise06:08:41
Sunset17:32:46
और भी...

दार्जलिंग फोटो गैलरी

  • Darjeeling Photo Gallery