Go To Top
Raftaar HomeRaftaar Home
Search
Menu
`
Menu
close button
Aurangabad

औरंगाबाद की यात्रा Aurangabad Travel Guide

औरंगाबाद (aurangabad)

औरंगाबाद शहर (Aurangabad City) महाराष्ट्र राज्य में स्थित है, जिसे प्राचीनकाल में फतेहनगर और संभाजीनगर के नाम से जाना था। औरंगाबाद, मुगल शासक औरंगजेब के नाम से प्रेरित है, जिसका शाब्दिक अर्थ 'सिंहासन द्वारा निर्मित' (Built by the Thrones) है। जनसंख्या के आधार पर औरंगाबाद महाराष्ट्र का पांचवा सबसे बड़ा शहर है। शहर में कई भव्य और बारीक नक्काशीदार दरवाजे स्थित हैं, जिनमें दिल्ली गेट, काला दरवाजा, रंगीन दरवाजा, पैठन गेट आदि शामिल हैं। शानदार और खूबसूरत दरवाजों की मौजूगी के कारण इस शहर को 'सिटी ऑफ गेट्स' (City of Gates) के नाम से भी जाना जाता है। औरंगाबाद विश्व प्रसिद्ध अजंता और एलोरा की गुफाओं, बीबी का मकबरा के साथ-साथ कई ऐतिहासिक स्मारकों से घिरा हुआ है, जिसके कारण इसे महाराष्ट्र की पर्यटन राजधानी (Tourism Capital of Maharashtra) के रूप में भी जाना जाता है। वर्तमान में, औरंगाबाद की गुफाएं, बीबी का मकबरा, पनचक्की व अन्य ऐतिहासिक इमारतें यहाँ आकर्षण केंद्र हैं। 

औरंगाबाद का इतिहास History of Aurangabad

औरंगाबाद के इतिहास में (History of Aurangabad City), 3 से 13 सदी के बीच आए मोड़ों का गवाह है, जो समय- समय पर सातवाहनों (Satavahanas), वाकाटकों (Vakatakas), बादामी के चालुक्य वंश और फिर ऐश्वर्यशाली यादव वंश, मुग़लों, मराठों, ब्रिटिश के अधीन हुआ। औरंगाबाद शहर की स्थापना सन् 1910 में मलिक अंबर (अहमदनगर के तत्कालीन प्रधानमंत्री) ने खिड़की नाम से की थी, लेकिन मलिक अंबर की मृत्यु के बाद, उसके बेटे फतेह खान ने शहर को 'फतेहनगर' के रूप में बदल दिया। मुगल शासन काल में सम्राट औरंगजेब ने इस शहर को मुगल साम्राज्य की भी प्रभावी राजधानी बनाई और शहर का नाम बदलकर औरंगाबाद रख दिया। औरंगजेब की मृत्यु के बाद उसके मंत्री निज़ाम-उल-मुलुक आसफ जाह (Nizam-ul-Muluk Asaf Jah) ने शहर की खूबसूरती को बढ़ाने के लिए कई महल, गार्डन, मस्जिद आदि का निर्माण करवाया।

औरंगाबाद की सामान्य जानकारी General Information of Aurangabad

राज्य - महाराष्ट्र
स्थानीय भाषाएं - मराठी (Marathi), उर्दू (Urdu), दखनी (Dakhni), हैदराबादी उर्दू (Hyderabadi Urdu)
स्थानीय परिवहन - टेम्पो, रिक्शा, ऑटो, बस
पहनावा - औरंगाबाद में लोग आज भी हर विशेष उत्सव, त्यौहार, कला प्रदर्शन आदि के अवसर पर  पारंपरिक पोशाक पहनते हैं। पुरुष धोती- कमीज (फेटा (Petha) के साथ कॉटन की पगड़ी और महिलाएं साड़ी पहनती हैं। युवा लड़के- लड़कियां जीन्स, टी-शर्ट, कैपरी आदि पहनते हैं। 
खान-पान - औरंगाबाद में कई विशेष स्थानीय व्यंजनों को पर्यटकों द्वारा पसंद किया जाता है। औरंगाबादी आने वाले पर्यटक, यहां के बाज़ारों से स्थानीय व्यंजनों का स्वाद ले सकते हैं। यह शहर सुगंधित पुलाव और बिरयानी के साथ- साथ मुगलई और हैदराबादी व्यंजनों के लिए जाना जाता है। इसके अलावा पर्यटक यहां दक्षिण भारतीय, उत्तर भारतीय, चाइनीज व्यंजन के साथ- साथ फास्ट फूड का भी मज़ा ले सकते हैं।

() राज्य में स्थित औरंगाबाद (Aurangabad), एक अहम ऐतिहासिक स्थल (Historical) है। औरंगाबाद में पर्यटन (Tourism in Aurangabad) के लिए कई प्रसिद्ध और आकर्षक स्थल (Aurangabad Tourist Places or Paryatan Sthal Hindi) हैं जो पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। इस लेख (Travel Guide) के माध्यम से पर्यटक अपनी औरंगाबाद यात्रा (Yatra) को सुविधाजनक तरीके से प्लान कर सकते हैं।